सबसे बेहतरीन बॉलीवुड फिल्म जो भारत में चल रहे जातिवाद को दर्शाती है

Article 15: One Of The Best Bollywood Movie Based On Casteism:

Article 15: One Of The Best Bollywood Movie Based On Casteism
Source: Instagram

बॉलीवुड में आज तक कई गंभीर मुद्दों पर फ़िल्में बन चुकी है और आज भी बन रही हैं. फिर चाहे वह भारत में चल रहे भ्रष्टाचार हो या फिर आंतकवादी हमले पर. लेकिन जब भी सिनेमा घरों में ऐसी फ़िल्में रिलीज की जाती हैं जो की असलियत को दर्शाती हैं तो अक्सर कई लोगों द्वारा ऐसी फिल्मों की बैन की जाने की मांग भी शुरू हो जाती है. फिर चाहे वह पीके हो या फिर पद्द्मावत. (कोई भी किसी भी फिल्म का विरोध कर सकता है इसमें हमारी कोई भी आपत्ति नहीं है और ये आपका अधिकार है).

भले ही कई लोग ऐसी फिल्मों का विरोध करते हो लेकिन ज्यादातर लोग ऐसी फिल्मों को काफी ज्यादा पसंद करते हैं और हमारी भी आपसे यही राय है की आप भी इन फिल्मों को बिना कुछ सोचे समझे बैन करने की मांग ना करें. ऐसी फिल्मों से कई बार लोगों को काफी कुछ सिखने को भी मिल जाता है.

इन्ही में से एक फिल्म ‘आर्टिकल 15’ भी हैं जो की भारत के काफी गंभीर मुद्दे जातिवाद पर आधारित है. फिल्म में कई ऐसे सीन दिखाए गये हैं जो की रियल स्टोरी पर आधारित हैं और सोचने पर मजबूर कर देते हैं. इस आर्टिकल में हम फिल्म ‘आर्टिकल 15’ के बारे में ही बतायेंगे और यह भी की इस फिल्म में क्या खास है.

आर्टिकल 15

Article 15: One Of The Best Bollywood Movie Based On Casteism
Source: Instagram

हम आपको ‘आर्टिकल 15’ फिल्म के बारे में बताएं पहला जान लेते हैं की आर्टिकल 15 क्या है. तो आपको बता आर्टिकल 15 भारतीय संविधान का एक एक्ट है जो की धर्म, जाति, लिंग या जन्म स्थान के आधार पर भेदभाव पर रोक लगाता है और इसी आर्टिकल के तहत छोटी जाति के लोगों को हर कोटे में आरक्षण भी दिया जाता है. इस आर्टिकल के तहत कोई भी छोटी जाति का आदमी भेदवाद करने वाले किसी भी बड़ी जाति वाले के खिलाफ FIR दर्ज करवा सकता और इसके तहत जल्द से जल्द कारवाई का भी प्रावधान है.

अब बात करते हैं फिल्म ‘आर्टिकल 15’ के बारे में तो हम आपको बता दे की फिल्म ‘आर्टिकल 15’ को 2019 में रिलीज किया गया था और ये फिल्म आज तक की इंडियन सिनेमा की बेहतरीन फिल्मों में से एक मानी जाती है. फिल्म ‘आर्टिकल 15’ को अनुभव सिन्हा ने डायरेक्ट किया था और इस फिल्म में आयुष्मान खुराना मुख्य भूमिका में नजर आये थे. इसके साथ ही इस फिल्म में नासर, मनोज पहलवा, कामोद मिश्रा और इशा तलवार भी महत्वपूरण भूमिका निभाते हुए नजर आये थे.

फिल्म ‘आर्टिकल 15’ को 20 जून 2019 को London Indian Film Festival में भी प्रस्तुत किया गया था. फिल्म ‘आर्टिकल 15’ का बजट 29 करोड़ था और इस फिल्म ने वर्ल्ड वाइड बॉक्स ऑफिस पर 93 करोड़ का कलेक्शन किया था. फिल्म ‘आर्टिकल 15’ को करीब 5 अवार्ड भी मिले थे.

फ़िल्म ‘आर्टिकल 15′ में खास क्या है?

वैसे तो पूरी फिल्म ही काफी खास है और हमारी आपसे राय है की आप इस फिल्म को एक बार जरुर देखें. साथ ही हम इस आर्टिकल में फिल्म की कहानी के बारे में नहीं बतायेंगे क्यूंकि इससे आपकी फिल्म के प्रति रूचि कम हो सकती है. लेकिन हम आपको फिल्म की कुछ खास बातें बता देते हैं जिन्हें सुनकर आपकी दिलचस्पी फिल्म के प्रति काफी बढ़ जायेगी.

फिल्म ‘आर्टिकल 15’ पूरी तरह से भारत में चल रहे जातिवाद और भेदभाव पर पर आधारित है और इस फिल्म में आयुष्मान खुराना एक आईपीएस ऑफिसर की भूमिका निभा रहे हैं और उनके किरदार का नाम आयान रंजन है. आयन विदेश से पढ़े थे और इंडिया लौटकर उन्हें आईपीएस की नौकरी मिलती है और उनकी पोस्टिंग उत्तर प्रदेश के एक गाँव में की जाती है और यहाँ आने के बाद आयान को कुछ ऐसा पता चलता है जो की उन्हें चौंका देता है. दरअसल उस गाँव में जातिवाद भेदभाव के नाम पर काफी ज्यादा क्राइम को वारदात दी जाती थी और इसके साथ ही इसमें राजनीती का भी काफी बड़ा रोल था. जब आयान इसकी जांच करता हो तो बड़े बड़े ऑफिसर उसके खिलाफ हो जाते हैं.

इसके साथ ही इस फिल्म में आर्टिकल 15 के गलत इस्तेमाल के बारे में दर्शाया गया है जिसमें झूठी FIR भी शामिल हैं. फिल्म की कई घटनाएं असली घटनायों पर आधारित हैं जिनमें 2016 Una flogging incident और 2014 Badaun gang rape allegation जैसी कई घटनाएँ शामिल हैं. फिल्म के एक सीन के दौरान जब आयुष्मान द्वारा लोगों से उनकी जाति के बारे में पूछा जाता है तो एक आदमी आयुष्मान को कहता है की क्या तुम जानते हो की इसके लिए भी मैं तुम्हारे खिलाफ केस कर सकता हूँ. फिल्म में न तो सिर्फ जातिवाद भेदभाव को दर्शाया गया है बल्कि इस फिल्म में छोटी जाति के लोगों द्वारा इस एक्ट के गलत इस्तेमाल को भी दर्शाया गया है.

फिल्म में कुछ खामियां हैं लेकिन इतना बेहतरीन स्टोरीलाइन और बेहतरीन एक्टिंग प्रदर्शन उन कमियों को छुपा देता है और इस फिल्म का डायरेक्शन भी काफी ज्यादा बेहतरीन है. फिल्म ‘आर्टिकल 15’ भले ही एक काफी बेहतरीन फिल्म थी लेकिन इसके बावजूद फिल्म का कई राज्यों में काफी ज्यादा विरोध किया गया था हालाँकि ऐसा क्यूँ इसके बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता. और आपको बता दे फिल्म ‘आर्टिकल 15’ को IMDB की तरफ से 8.2 स्टार रेटिंग दी गयी है.

अगर आप ये फिल्म देखन चाहते हैं तो आप इस फिल्म को Netflix पर देख सकते हैं.


Read Also- राजनितिक दल भारतीय जनता पार्टी BJP में शामिल हो चुके हैं ये 14 फेमस सेलिब्रिटीज

2021 में एक दुसरे को डेट कर रहे हैं ये फेमस बॉलीवुड सेलेब्रिटी

6 thoughts on “सबसे बेहतरीन बॉलीवुड फिल्म जो भारत में चल रहे जातिवाद को दर्शाती है

  1. Hello there. I found your blog by means of Google at the same time as looking for a comparable subject, your web site came up. It seems great. I have bookmarked it in my google bookmarks to come back then. Vale Hailey Ralph

Leave a Reply

Your email address will not be published.